-Advertisement-

अब इंश्योरेंस खरीदना मोबाइल खरीदने से भी आसान हो गया है

Rate this post

आज के दिनों में सब कुछ ऑनलाइन खरीदी किया जा रहा है जब से कोरोनावायरस का आतंक शुरू हुआ है तब से कुछ ज्यादा ही हो रहा है । और जिओ, फ्लिपकार्ट, ऐमेज़ॉन  यहां से आप जो चाहे वह खरीद सकते हैं वह भी सिर्फ कुछ क्लिक करने की देर है बस । अभी कल ही मेरे भाई ने कुछ मोबाइल के कवर आर्डर आर्डर किए थे जिसमें उसने 10 कवर मंगाए थे उसे चाहिए था सिर्फ एक ही लेकिन फिर भी उसने 10 को ऑर्डर किया जिसमें से उसने दो रख लिए और आठ रिटर्न कर दिए दूसरे दिन डिलीवरी बॉय आया और वह लेकर चला गया और उसके विक्रेता ने उसके  पैसे भी वापस कर दिए ऑनलाइन विक्रेता भी अपने ग्राहकों का ख्याल रखते हैं ।

[wpsm_toplist]

अब इंश्योरेंस खरीदना मोबाइल खरीदने से भी आसान हो गया है

यह तो थी मोबाइल और गैजेट्स की बातें लेकिन इंश्योरेंस पॉलिसी का क्या वह कैसे करें । तो चलिए यह भी आपके लिए क्लियर कर देते हैं । सबसे पहले आपको यह बताना लगाना होता है कि कौन सी पॉलिसी में कम से कम टाइम है । फिर आपको यह भी पता लगाना होगा कि इस पॉलिसी में कम बहिष्करण है । यह सब करने के बाद आप सुरक्षित तरीके से आगे बढ़ सकते हैं फिर आपको कौन सी खरीदनी है पॉलिसी वह आप तय कर सकते हैं ।

जब क्लेम करने की बात आती है तो कोई दस्तावेज जमा करनी हो तो कई सवालों का जवाब देना होता है जो कि पॉलिसी धारक को बहुत परेशानी होती है । जिसकी वजह से पॉलिसी धारक बहुत निराश होता है । बस ऐसे ही पॉलिसी की वजह से लोग पॉलिसी को रद्द कर देते हैं ।

इंश्योरेंस कंपनी आप तक पहुंचने के लिए क्या कर सकती है इसके लिए आपको मैं कुछ सुझाव देता हूं ।

सिंपल इंश्योरेंस प्रोडक्ट में हेल्प करते हैं ।

क्या आप जानते हैं कई बीमा कंपनियों ने कोरोना का कवच पॉलिसी क्यों बंद की ? इस पॉलिसी की मांग बहुत ज्यादा थी । यह समझने के लिए एक सिंपल प्रोडक्ट था । जैसे ही कोविड-19 के 15 दिन गुजर जाते हैं उसके बाद  खर्च आपके पॉलिसि के अंदर आ जाते हैं ।

असल में कुछ बीमा कंपनियों का सोचना था कि इससे दूसरे हेल्थ पॉलिसी की सेल्स कब हो सकती है । आज की यंग जनरेशन नॉर्मल हेल्थ पॉलिसी के लिए ज्यादा पैसा खर्च करना नहीं चाहती, जिसमें ऐसी बीमारी है शामिल है जो आज असंभव लगती है ।इसलिए ऐसी नीतियां कम उम्र में कई सहस्राब्दियों को पसंद नहीं आती हैं।

असल में देखा जाए तो हमें करोना कवच जैसी पॉलिसी लाने की ज्यादा जरूरत है । कैसा रहेगा अगर आप एक कोल्ड ड्रिंक की पूरी बोतल लेने के बजाय सिर्फ पाउच लेकर अगर आपका काम होता है तो आपको कैसा लगेगा । जिसे आप जब चाहे माइग्रेट कर सकते हैं ।

सिर्फ अस्पताल काबिल ही नहीं उसके बाद भी देखभाल होनी चाहिए ।

ज्यादातर बीमा कंपनियां आपके हॉस्पिटल के बिल को भर देती है । हालांकि पॉलिसी धारक को कई हेल्थ इश्यूज का सामना करना पड़ता है । कई पुरानी स्वास्थ्य स्थितियों पर विचार करें जो अत्यधिक प्रचलित हैं: कंप्यूटर आई सिंड्रोम, आर्थोपेडिक चिंताएं जैसे कि पीठ के निचले हिस्से में दर्द या गले में खराश, और मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दे, विशेष रूप से तनाव और डिप्रेशन।

अंदाजा लगाया जाता है कि 20 से 45 उम्र के बीच में आंखों का इलाज कराने जाने वाले हर तीसरे व्यक्ति में नेत्र सिंड्रोम के लक्षण पाए गए हैं ।टाइट हैमस्ट्रिंग का सीधा संबंध गतिहीन जीवन शैली से है जो डेस्कजॉब के साथ आता है।इसी वजह से मेंटल हेल्थ पर ज्यादा असर पड़ रहा है।

स्टैंडर्ड हेल्थ पॉलिसी में कंसल्टेशन को पॉलिसी के बाहर रखा गया है क्योंकि वह ओपीडी डिपार्टमेंट में आता है । यह एक बहुत बढ़िया अवसर था जो छूट गया । यदि कोई पॉलिसीधारक की वास्तविक आवश्यकता के प्रति सहानुभूति रख सकता है, तो उन्हें अपनी आवश्यकता का विश्लेषण करने और उनके लिए और भी बड़ी समस्याओं को हल करने के लिए प्रदाता के साथ अधिक विश्वास होगा।

क्लेम प्रोसेस को आसानी से कैसे करें ।

देखा जाए तो हम भी से कुछ लोग ऐसे भी हैं जो भुगतान करने के लिए यूपी आए डिजिटल पेमेंट क्रेडिट कार्ड नेट बैंकिंग का इस्तेमाल करते हैं ।हालांकि, बीमा बकाया की प्रतिपूर्ति के लिए 30 से 60 दिनों तक इंतजार करना अनंत काल जैसा लगता है। कैशलेस क्लेम एक बेहतरीन इनोवेशन था जो कई साल पहले हुआ था। लेकिन हमें अधिक मेहनत करनी होगी। बीमा कंपनियों को यह सुनिश्चित करने के तरीके खोजने चाहिए कि बिलों का जल्दी से निपटान हो और प्रौद्योगिकी का उपयोग करें  । और अपने ग्राहकों पर थोड़ा भरोसा करना चाहिए ताकि सारा प्रोसेस आसानी से हो जाए ।

बीमा को किफायती बनाया जाए ।

हमें कई लोग ऐसे हैं जो हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी खरीदने के लिए एक्स्ट्रा पैसा खर्चा करने से बचे रहते हैं क्योंकि उनका ऑफिस उन्हें एक ग्रुप कवर पॉलिसी प्रदान करता है ।

बीमा कंपनियों को टॉप-अप हेल्थ कवर को बढ़ावा देना चाहिए। कटौती योग्य नियोक्ता की बीमा राशि के बराबर हो सकता है। टॉप-अप के लिए प्रवेश स्तर की कीमत पारंपरिक मेडिक्लेम की तुलना में काफी कम है। यह अंडर-बीमा के मुद्दे को भी सीधे हल करता है, क्योंकि नियोक्ता कवरेज 2-5 लाख रुपये के बीच है, और आम तौर पर अपर्याप्त है। जबकि कई टॉप-अप योजनाएं उपलब्ध हैं, फिर भी अधिक अनुकूलन विकल्पों की पेशकश करने की आवश्यकता है ताकि उठाव को सक्षम किया जा सके।इनमें से कुछ योजना को आधार में बदलने की क्षमता, बाद की तारीख में पूर्ण कवर, एक बड़ी पारिवारिक परिभाषा और लचीले भुगतान विकल्प हो सकते हैं।

 

 

-Advertisement-

हेलो दोस्तों यह वेबसाइट हमने इसलिए बनाई है ताकि आप लोगों को ज्यादा से ज्यादा इंफॉर्मेशन दे सके जो आपको आसानी से समझ में आए |

Leave a Comment

Dhani Freedom Card dhamakedar cashback SBI E MUDRA LOAN kam interest par MSME loan scheme ab sabko milega jaldi karo New year quotes 2022 Christmas wishes for girlfriend
%d bloggers like this: