Credit Card

9 इम्पोटेंट पॉइंट फॉर क्रेडिट कार्ड यूजर | इन बातो को जानना ज़रूरी है

Rate this post

9 इम्पोटेंट पॉइंट फॉर क्रेडिट कार्ड यूजर :दोस्तों अगर आप क्रेडिट कार्ड यूज करते हैं तो आपको पता होगा कि जो भी आप क्रेडिट कार्ड यूज कर रहे हैं उसके एक लिमिट होती है।उस लिमिट से ज्यादा आप यूज़ नहीं कर सकते अगर आप करोगे तो आपको एक्स्ट्रा फाइन भरना पड़ता है।और आप को दिए गए क्रेडिट कार्ड की लिमिट आपकी जॉब प्रोफाइल आपका क्रेडिट स्कोर आपकी इनकम इसके हिसाब से तय होता है।

ADVERTISMENT

क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल करने के कई फायदे हैं।यह आपको छोटे समय के लिए छोटी-मोटी परेशानियों का हल बहुत आसानी से निकाल कर देता है,साथ ही साथ आपको कैशबैक रीवार्ड प्वाइंट और एक्स्ट्रा छूट भी प्रोवाइड करता है।अगर आप इसका सही से इस्तेमाल करते हैं और अपनी ड्यू डेट के पहले अपने सारे बिल को पेड  करते हैं तो आपको फिर कोई चिंता करने की जरूरत नहीं है।

अगर आप हमेशा अपना बिल टाइम पर पर करते हैं  तो आप का क्रेडिट इसको भी बढ़ता है और भविष्य में आपको लोन लेना हो तो बहुत आसानी से मिल जाता है।अगर आपने अब तक क्रेडिट कार्ड नहीं लिया है या आप लेने वाले हैं या आप  यूज कर रहे हैं तो यह आर्टिकल आपके लिए है हमने इसके अंदर 9 इम्पोटेंट पॉइंट फॉर क्रेडिट कार्ड यूजर कुछ ऐसी बातें बताई है जिसका आपको ध्यान रखना चाहिए।

9 इम्पोटेंट पॉइंट फॉर क्रेडिट कार्ड यूजर| यह 9 बातें हमेशा याद रखें

  • क्रेडिट कार्ड क्रेडेंशियल
  • क्रेडिट कार्ड की सीमाएं
  • ऑनलाइन शॉपिंग और कॅश विथड्रावल
  • बिल निर्माण दिवस और मासिक समय सीमा
  • पूरा बकाया चुकाना
  • ऐड-ऑन कार्ड
  • अधिकतम लाभ लेना
  • E.M.I
  • वार्षिक शुल्क

क्रेडिट कार्ड क्रेडेंशियल

अगर आप क्रेडिट कार्ड यूजर है तो आपको अपना क्रेडिट कार्ड नंबर एक्सपायरी डेट सीवीवी ओटीपी कभी किसी के साथ शेयर नहीं करना है| यहां तक कि कस्टमर केयर को भी आपको यह सब चीजें नहीं बतानी है, क्यों इसी  की बेस पर सारी ट्रांजैक्शन होते हैं।

क्रेडिट कार्ड की सीमाएं (CRED APP  BENEFITS)

जैसा कि हम आपको पहले भी बता चुके हैं हर क्रेडिट कार्ड की लिमिट होती है, जो कि आपकी जॉब प्रोफाइल, इनकम, क्रेडिट स्कोर, यह देखकर तय की जाती है। आपको कभी भी अपने कार्ड की पूरी लिमिट को खर्च नहीं करना है। उतना ही यूज़ करें जितना आप उसे भर सकते हैंअपने बजट के हिसाब से । अगर आप अपनी लिमिट से ज्यादा यूज करते हैं तो आपको और लिमिट का चार्जेस भरना पड़ेगा और यह बहुत ही ज्यादा होता है यकीन कीजिए मैं भर चुका हूं।

देखा जाए तो आपको अपना क्रेडिट कार्ड उसकी लिमिट के हिसाब से 30 से 50% ही यूज करना चाहिए ,और आपको अपने मोबाइल पर एसएमएस अलर्ट ईमेल अलर्ट यह सर्विस भी चालू करके रखनी है ताकि आपको पता चले आप ने कहां-कहां  कब कितना ट्रांजैक्शन किया है,और हमेशा अपनी स्टेटमेंट को ध्यान से देखना चाहिए।

वैसे स्टेटमेंट अलर्ट ईमेल अलर्ट मैसेज अलर्ट यह सब के लिए ऍप भी है जो CRED एप है मैं भी यूज़ करता हूं मैं आपको भी सजेस्ट  करूंगा इसके अंदर आप अपना  क्रेडिट कार्ड की पूरी डिटेल्स को सेव करके रख सकते हैं।

यह आपको पूरा बताएगा के आपको कब कितना बिल भरना है आपने कहा यूज़ किया है, आपको कोई एक्स्ट्रा चार्ज लग कर आया है यह सारी बातें बताएगा प्लस इस अप्प के ज़रिये  बिल भरोगे  तो आपको एक्स्ट्रा इनकम भी मिलेगा मतलब कैशबैक आता है आपको और रियल कैश भी  है और बहुत सारे और भी रिवार्ड्स मिलते हैं इसके अंदर, और यह व्हाट्सएप पर भी आपको अलर्ट करते हैं।

ऑनलाइन शॉपिंग और कॅश विथड्रावल

ऑनलाइन ऐसी बहुत सारी वेबसाइट है ऐप है जो कि आपको अपना डाटा सेव करने के लिए बोलते हैं लेकिन आपको हर जगह सेव नहीं करना है सिर्फ उन्हीं जगह पर करना जहां पर आपको ट्रस्ट हो,अगर आप कोई भी नई वेबसाइट पर अपने क्रेडिट कार्ड का डाटा सेव करते हो वहां पर आपके साथ फ्रॉड होने का खतरा है और ऑनलाइन ट्रांजैक्शन के लिए हमेशा ओटीपी का प्रयोग करें।

क्रेडिट कार्ड का यूज करके आप एटीएम से कैश विड्रोल कर सकते हैं, हालांकि मैं आपको सजेस्ट नहीं करूंगा क्योंकि जब भी आप क्रेडिट कार्ड यूज करके चाहे कितना भी अमाउंट निकालो तो आपको एक फिक्स अमाउंट का चार्जेस देना पड़ता है जो कि 300 से लेकर 500 तक होता है कई कंपनियों में तो 1000 रुपए तक का भी है। और साथ ही साथ उसके ऊपर आपको ब्याज भी देना पड़ता है जो कि 2.5 से 3% तक होता है।

बिल निर्माण दिवस और मासिक समय सीमा

अगर आप क्रेडिट कार्ड यूजर है तो आपको पता होगा कि आपको अपना बिल पाय  करने के लिए 50 दिन का टाइम मिलता है। असल में  ऐसा नहीं है हर किसी  कंपनी का स्टेटमेंट अलग-अलग टाइम पर जनरेट होता है उसके हिसाब से ही दिन तय होता है। मिनिमम आपको 20 दिन का टाइम तो मिलता ही है जब से बिल जनरेट हुआ तब से बिल भरने के लिए  आपको 20 दिन का टाइम मिलता है।

और जब आप का क्रेडिट कार्ड का बिल जनरेट हो जाता है उसके बाद आप कोई भी खरीदी करते हो तो इसी स्टेटमेंट में उसे अकाउंट नहीं किया जाता उसके लिए नेक्स्ट स्टेटमेंट का वेट करना होता है उसके बाद ही उसको आप को पाय करना होता है ।

पूरा बकाया चुकाना

सभी क्रेडिट कार्ड में एक मिनिमम अमाउंट पाय करने का ऑप्शन होता है, जो कि क्रेडिट कार्ड के बिल का तकरीबन 5 परसेंट होता है जो कि आपको लेट पेमेंट फ्री के चार्जेस से बचाता है, लेकिन उसके ऊपर जो बचा हुआ अमाउंट है कंपनी उसके ऊपर आपको ब्याज लगाती है जो कि 3 से 5% प्रति  वर्ष तक हो सकता है कई कंपनियों में तो वह चार्जेस 40% तक है।इसीलिए अपने बिल का पेमेंट हमेशा टाइम पर करें ।

ऐड-ऑन कार्ड

क्रेडिट कार्ड देने वाली कंपनी आपको एक औरऑप्शन देती है जिसे ऐडऑन कार्ड कहते हैं या फिर सेकंडरी कार्ड  कहते हैं, आपके कार्ड का ही कॉपी होता है, इससे भी आप सारी ट्रांजैक्शन कर सकते  हैं। आपकी फैमिली में अगर किसी को क्रेडिट कार्ड नहीं मिल रहा है तो आप यह कार्ड उसे देकर  उसका इस्तेमाल कर सकते हैं।

एक और बात आपको बताना चाहता हूं कि सेकेंडरी कार्ड से जो भी ट्रांजैक्शन होते हैं उसका बिल प्राइमरी कार्ड पर ही आता है, यानी कि आपके प्राइमरी कार्ड पर ही उसका बिल जनरेट होगा, इसीलिए आपने जिसे भी कार्ड  दिया है आपको पूरा ध्यान रखना होगा,  कार्ड से कहां ट्रांजैक्शन हो रहे हैं कहां यूज़ हो रहा है।

ऐड-ऑन कार्ड कार्ड का भी अगर आप पेमेंट टाइम पर नहीं करोगे तो आपको लेट पेमेंट फी  लगेगी और ब्याज भी देना पड़ेगा।और टाइम पर बिल ना भरने की स्थिति में आप का क्रेडिट इसको भी खराब हो सकता है ।

अधिकतम लाभ लेना

क्रेडिट कार्ड के साथ बहुत सारे बेनिफिट आते हैं जैसे कैशबैक, रीवार्ड प्वाइंट, एयर मिल, एयरपोर्ट लाउंज एक्सेस, स्पेशल होटल पर स्पेशल छूट आपको अपना क्रेडिट कार्ड चुनते वक्त इन सब बातों का ध्यान रखना होगा इससे आपके काफी पैसे बच जाएंगे।

E.M.I

कई क्रेडिट कार्ड में E.M.I ऑप्शन आता है जो कि आपने कोई भी बड़ी वस्तु खरीदी है उसको आप E.M.I में कन्वर्ट कर सकते हैं, और यह बहुत अच्छा विकल्प है, इसको आप को हर महीने भरना होता है इसकी अवधि 3 महीने से लेकर 1 साल तक की होती है। आपको इस बात का भी ख्याल रखना है कि जैसे ही आप कोई भी अमाउंट को E.M.I में कन्वर्ट करते हैं तो आपका उतना अमाउंट फ्रीज़  हो जाता है।फिर जैसे-जैसे आप मंथली इंस्टॉलमेंट भरते  जाते हो आपकी फ्रीज़  हुई राशि खुलने लग जाती है।लेकिन आपको E.M.I में कन्वर्ट करने से पहले उसके ब्याज दरों का पता करना चाहिए।

वार्षिक शुल्क

आपके कार्ड को चालू रखने के लिए अक्सर कहीं क्रेडिट कार्ड कंपनी आपसे एनुअल फीस लेती है या उसे मेंबर फीस भी कहते हैं।यह ₹500 से लेकर 5000 तक हो सकती है।मैंने अक्सर देखा है कि कई  कंपनी ऐसे भी है जो आपको आपकी एनुअल फीस माफ कर देती है अगर आप एक उनके लिमिट के हिसाब से पेमेंट यूज़ करते हो तो आपको फीस माफ हो जाती है।

आखिर मैं आपको बताना चाहूंगा कि क्रेडिट कार्ड आपके लिए एक बेहतरीन प्रोडक्ट है लेकिन फिर भी आपको अपना ज्यादा ध्यान पैसे खर्च करने पर नहीं बल्कि पैसे बचाने पर देना चाहिए।और हमेशा अपनी लिमिट के हिसाब से ही क्रेडिट कार्ड का यूज करें जितना आप में भरने की क्षमता है तभी आप लोन और इंस्टॉलमेंट से बच पाएंगे ।

FAQ

क्या क्रेडिट कार्ड फ्री में मिलता है ?

असल में यह आपकी प्रोफाइल पर निर्भर करता है कि आपको क्रेडिट कार्ड फ्री में मिलेगा या इसके चार्जेस लगेंगे आपकी क्रेडिट स्कोर और आपकी जॉब प्रोफाइल के हिसाब से आपको क्रेडिट कार्ड दिया जाता है.

क्या मिनिमम राशि भरने पर लेट फी चार्जेस लगता है ?

जी नहीं अगर आप मिनिमम राशि भरते हो तो आपको लेट पर चार्जेस नहीं लगता है लेकिन आपकी बची हुई राशि पर आपको ब्याज भरना पड़ता है.

क्या क्रेड एप यूज करना सेफ है ?

जी हां क्रेड एप रेपुटेड कंपनी है जो कि आपकी सारी ट्रांजैक्शन का ध्यान रखती है और आपको उसके बारे में बताते रहती है और यह सेफ है.

यह भी पढ़ें :इमरजेंसी में पर्सनल लोन ले या क्रेडिट कार्ड लोन ले

यह भी पढ़ें :फ्री क्रेडिट कार्ड कैसे मिलेगा पूरी जानकारी

ये भी देखे : PayTM Credit Card saste me achcha

 

ADVERTISMENT

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

ADVERTISMENT
Back to top button
ADVERTISMENT